सोमवार, 1 मार्च 2010

ब्लोगरी होली

ब्लोगरी  होली 



''होली का दिन, और घर में! वह भी छत पे!'' यकायक आई हुई इस  आवाज़ पर मैं चौंका, देखा तो अपनी चिर-परिचित मुस्कान के साथ बन्दर मियाँ मौजूद थे. मियाँ इसलिए की अब उसके भी दाढ़ी दिखी, शायद मुझसे प्रेरणा लेकर! [ये ब्लॉग जगत से जुड़े हुए लोग प्रेरणा बहुत जल्दी ले लेते है, किसी ने कोई ''शब्द'' लिखा तो पकड़ लिया और घसीट दी कलम  {sorry, दबादी कुंजियाँ}.

मै:- अरे मियाँ , आज बहुत दिनों बाद !

बन्दर:- गाली क्यों दे रहे है, दाढ़ी तो बाला साहेब भी रखे है.

मै:- ख़ैर छोड़ो, आज तो अलग मूड ही में हो, कुछ झगडा-बगड़ा तो नहीं किये ना?

बन्दर:- ना, बल्कि आज हम आप संग होली खेलने आया हूँ.

मैं:- कैसे?  न रंग लाये हो न गुलाल.

बन्दर:- अब इसकी ज़रूरत न रही, अब ब्लॉग जगत में लेखो से होली खेली जा रही है, हम भी लिख दिये है एक लेखवा ...आप पर!

मै:- हम पर! क्या लिख दिया है भाई, फजीहत मत करवाना.

बन्दर :- कुछ नहीं , बस  bio-data  दे दिया है, विझापन तो बहुत महंगे हो गए है....अब अपनी ब्लॉग साईट से अच्छी जगह क्या होगी मुफ्त प्रचार की? बस अब मै चला , बंदरिया बिन रंग के ही लाल हो रही होगी, आप तो इस साईट पर पढ़ लेना...
http://chautha-bandar.blogspot.com....बुरा न मानना होली है....
                                                          Bio-Data

नाम:-  श्री मंसूर अली हाश्मी
उम्र:-   सिफ ३५ वर्ष [emergency के  पश्चात की, पिछली भुला गयी है]]
वैवाहिक स्थिति:- केवल one fourth occupied [ ३ की गुंजाइश और] *
कारोबार:-  'कार'से .... बाहर घूमने का बेहद शौक
Hobbies:-  ब्लॉग पढना, टिप्पणी दे कर उस पर टिप्पणी की प्रतीक्षा करना, ब्लॉग लिखना [बल्कि शब्दों से खिलवाड़ करना], swimming [यानी तैरने मिले  तब   ही नहाना]
योग्यता:- बी. काम [यानि बिना काम के], अदीब [रदीफ़ -काफ्ये तक] , pharmacist, आयुर्वेदाचार्य              [कृपया R1 h1 के मरीज़ न मिले]
सोशल स्तातस:-  सौ 'सल' वाला व्यक्तित्व [ सबसे अधिक कपाल पर]
परिवार :- ४ बेटे, ४ बहू, ३ पोते-पोती [सभी बाहर], एक अदद पत्नी [चार के बराबर]*
विझापन का उद्देश्य:- कृपया  stars  [ * ] पर नज़र डाले #

#संगीता पूरी जी भी स्टारस  से मार्ग दर्शन लेती है.

holi ki badhaaiyaan shubh kaamnaao sahit.

-mansoor ali hashmi


10 टिप्‍पणियां:

  1. हम सोचे थे कि अभी चार दुलहिनों की जगह खाली है। पर आगे का वृत्तांत पढ़ा तो पता लगा चारों सीटें एक ही प्राणी ने आक्यूपाई कर रखी हैं. बाकी तीन का स्कोप खत्म।
    होली मुबारक हो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपको तथा आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ.nice

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही है!!




    ये रंग भरा त्यौहार, चलो हम होली खेलें
    प्रीत की बहे बयार, चलो हम होली खेलें.
    पाले जितने द्वेष, चलो उनको बिसरा दें,
    खुशी की हो बौछार,चलो हम होली खेलें.


    आप एवं आपके परिवार को होली मुबारक.

    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा लगी ब्लागर होली। आपको तथा आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं बहुत ख़ुश हूँ यहाँ आकर, और बार-बार अजब सा ख़्याल आ रहा है कि मैं आज तक यहाँ क्यों नहीं आया!
    बहुत अच्छा लगा आपका लिखा पढ़कर भी और आपकी शख़्सियत के बारे में जानकर भी।
    अब आता रहूँगा, आमीन!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हाशमी साहब, आप हमारे ब्लॉग पर आये अच्छा लगा, यह ब्लॉग मुस्लिम भाइयों का विरोध करने के लिए नहीं बल्कि बाबर और लादेन जिस इस्लाम की परिभासा देते हैं उनके विरोध के लिए है. आप खुले मन से अपना विचार भी व्यक्त करें. आप जैसे लोंगो को चर्चित होना चाहिए पर चर्चित वे हो रहे हैं जो विघटन पैदा करते हैं. आपका स्वागत है.
    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच - हल्ला बोल

    उत्तर देंहटाएं
  7. chacha ji
    rang jamana koi aapse seekhe

    madhu tripathiMM

    kavyachitra.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. बड़ी मजेदार शख्सियत हैं आप.
    जारी रखिये जिन्दादिली.

    उत्तर देंहटाएं